कोरोनाकाल में भी निःसंकोच रक्तदान कर कई लोगों को नया जीवन दे रहे हैं हल्द्वानी ऑनलाइन संस्था (सहायता समूह) के साथी।

जहाँ एक तरफ भारत एवं पूरे विश्व में कोरोनाकाल के कारण नकारात्मक परिस्थिति बनी हुई है वहीं दूसरी ओर “देवभूमि उत्तराखंड” के नैनीताल जिले में कुमाऊँ का द्वार कहा जाने वाला शहर “हल्द्वानी” में एक ग्रुप “हल्द्वानी ऑनलाइन संस्था (सहायता समूह)” जो कि हल्द्वानी शहर का “लाइफ लाईन” से भी कई लोगों द्वारा जाना जाता है। इस ग्रुप के द्वारा पिछले कई वर्षों से समाज में गरीब तबके एवं जरूरतममंद लोगों की निःशुल्क सहायता की जाती है।

इसी कड़ी में इस ग्रुप द्वारा लोगों को नया जीवन देने हेतु चलाई जाने वाली आपातकाल में रक्तदान (रक्तदाता व्यवस्था) मुहीम के माध्यम से हजारों लोगों को निरंतर नया जीवन दिया जा रहा है।

समूह साथी निखिल अग्रवाल जी किसी जरूरतमंद हेतु मुखानी स्थित ब्लड बैंक में B+ रक्तदान करते हुए।

समूह संस्थापक/अध्यक्ष दिनेश ल्वेशाली जी जो कि वर्तमान में हल्द्वानी के ही निवासी हैं उनसे बातचीत में हमें जानकारी मिली कि जब भी किसी मरीज हेतु आपातकाल में रक्त की जरूरत पड़ती है और उनके परिजनों के पास मरीज की जरूरतानुसार रक्तदाता उपलब्ध ना हों तो उनके द्वारा हल्द्वानी ऑनलाइन संस्था के साथियों से संपर्क कर मरीज की सम्पूर्ण जानकारी देकर मदद हेतु आग्रह किया जाता है।

समूह साथी हुकम सिंह जी किसी जरूरतमंद हेतु सुशिला तिवारी ब्लड बैंक में B+ रक्तदान करते हुए।

समूह में रक्तदाता की व्यवस्था करने वाले साथियों को जानकारी मिलते ही तत्काल मरीज के जरूरतानुसार संस्था द्वारा बनाई गई रक्तदाताओं की सूची में उक्त रक्त समूह के साथियों से संपर्क किया जाता है, जो भी साथी रक्तदान हेतु सक्षम एवं उपलब्ध होता है वो संस्था द्वारा मात्र एक फोन कॉल से जानकारी मिलते ही तत्काल ब्लड बैंक आकर उक्त मरीज हेतु रक्तदान करते हैं।

समूह साथी नीलाम्बर पलड़िया जी किसी जरूरतमंद हेतु बेस अस्पताल ब्लड बैंक में O+ रक्तदान करते हुए।

चाहे दिन हो या रात, गर्मी हो या सर्दी, धूप हो या बारिश, पास हो या दूर ये सब बाधाओं को ना देखते हुए तत्काल रक्तदान हेतु ब्लड बैंक पहुँच जाते हैं।

समूह साथी धर्मेश शर्मा जी किसी जरूरतमंद हेतु मुखानी स्थित ब्लड बैंक में B+ रक्तदान करते हुए।

हल्द्वानी ही नहीं बल्कि संस्था से जुड़े साथियों द्वारा रानीखेत, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, नैनीताल, रुद्रपुर, रामपुर, काशीपुर, बाजपुर, बरेली, देहरादून, हरिद्वार, दिल्ली, हरियाणा एवं अन्य कई शहरों में भी आपातकाल में जरूरत पड़ने पर त्वरित रक्तदान कर कई लोगों को नया जीवन देने की ये मुहीम समाज में कई लोगों के लिए प्रेरणास्रोत है। दिनेश ल्वेशाली जी से जानकारी में हमें पता चला कि संस्था का फेसबुक में एक ग्रुप भी है “हल्द्वानी ऑनलाइन संस्था (सहायता समूह)” नाम से, इस ग्रुप में तकरीबन 68000 से ज्यादा लोग अभी तक जुड़ चुके हैं। फेसबुक के माध्यम से ही संस्था के रक्तदाता व्यवस्था मुहीम के साथियों द्वारा रक्तदाताओं की एक सूची तैयार की गई है, जब भी कोई नया रक्तदाता समूह से जुड़ता है तो उस सूची में उनका नाम, रक्त समूह, संपर्क नंबर, वर्तमान निवासी शहर का नाम एवं अंतिम रक्तदान की तारीख-महीना ये सारी जानकारी शामिल कर दी जाती है। आपातकाल में जरूरत पड़ने पर उसी सूची में से रक्तदाताओं से संपर्क किया जाता है।

समूह साथी दिप्पी (दीपा) पटवाल किसी जरूरतममंद हेतु मुखानी स्थित ब्लड बैंक में AB+ रक्तदान करते हुए।

प्रेरणादायक बात ये है कि कोरोनकाल काल में भी इस समूह के साथियों द्वारा निःसंकोच निरंतर रक्तदान कर कई लोगों को नया जीवन दिया जा रहा है, दिनेश ल्वेशाली जी ने बताया कि कोरोनाकाल में 22-मार्च-2020 से अब तक हल्द्वानी ऑनलाइन संस्था के 645 साथियों ने आपातकाल में रक्तदान कर संस्था की इस मुहीम में बढ़-चढ़कर साथ देकर समाज में मानवता की एक मिशाल कायम की है एवं पिछले 2 वर्षों में अपताकाल स्थिति में संस्था के 1900 साथी रक्तदान कर चुके हैं, इन सभी रक्तदाताओं के सहयोग से ही संस्था को “लोगों की जान बचाने वाली इस मुहीम” में निरंतर नई ऊर्जा मिलने के साथ साथ आपातकाल में किसी मरीज हेतु त्वरित रक्त व्यवस्था करने में आसानी होती है। कोरोना काल में भी संस्था द्वारा रोजाना 4-5 मरीजों हेतु रक्त की व्यवस्था करवाई जा रही है, कभी कभी ऐसा भी हुआ है कि एक ही दिन में 10 से 15 रक्तदाताओं की व्यवस्था संस्था द्वारा करवाई जाती है।

समूह साथी दीक्षा नेगी किसी जरूरतममंद हेतु मुखानी स्थित ब्लड बैंक में AB+ रक्तदान करते हुए।

इसी कड़ी में आज भी हल्द्वानी में अलग-अलग अस्पतालों में इलाज ले रहे मरीजों को आपातकाल में रक्त की जरूरत पड़ने पर जानकारी मिलते ही संस्था से जुड़े साथी “निखिल अग्रवाल जी ने B+, हुकम सिंह जी ने B+, नीलाम्बर पलड़िया जी ने O+, धर्मेश शर्मा जी ने B+, दिप्पी (दीपा) पटवाल ने AB+, दीक्षा नेगी (प्रथम बार रक्तदान) ने AB+, एवं दीपक ल्वेशाली जी ने B+ रक्तदान किया।

समूह साथी दीपक (शीतांशु दिवाकर) ल्वेशाली जी किसी जरूरतममंद हेतु मुखानी स्थित ब्लड बैंक में B+ रक्तदान करते हुए।

बताते चले कि बीते वर्ष हल्द्वानी शहर में डेंगू महामारी के विकराल रूप के कारण 90 दिनों के अंदर डेंगू पीड़ितों हेतु संस्था से जुड़े 600 से ज्यादा साथियों ने रक्तदान किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: