Tue. Feb 25th, 2020
reportsIndia do_action('covernews_action_get_breadcrumb');
                                   

मोबाइल में झुकी जिंदगी, बढ़ाया गर्दन, पीठ व कमर दर्द, क्या कहते है चिकित्सक जाने।

हल्द्वानी: मोबाइल लेकर लंबे समय तक एक ही स्थिति में बैठे रहने से परेशानियां बढ़ गई हैं। इसका सबसे अधिक असर गर्दन, पीठ व कमर पर पड़ रहा है। यही कारण है कि रविवार को हैलो डॉक्टर से सबसे अधिक लोगों ने इन्हीं बीमारियों से बचाव के लिए परामर्श लिया। विवेकानंद अस्पताल के वरिष्ठ न्यूरोसर्जन डॉ. महेश शर्मा इस दौरान लोगों को परामर्श दे रहे थे। उन्होंने बताया कि नियमित व्यायाम और जीवनशैली में बदलाव करने से गर्दन, पीठ व कमर दर्द की समस्या को घातक होने से बचाया जा सकता है।

गर्दन दर्द से बचने को करें एक्सटेंशन एक्सरसाइज

डॉ. महेश शर्मा ने बताया कि गर्दन दर्द यानी स्पैंडलाइटिस में हाथों में सुन्नपन, झनझनाहट, कमजोरी, कंधों में दर्द के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। कई बार समस्या अधिक होने पर हाथ-पांव काम करना बंद कर देते हैं। ऐसे में नियमित व्यायाम के साथ एक्सटेंशन एक्सरसाइज कारगर साबित होती है। लंबे समय तक एक ही स्थिति में काम न करें। दवाइयों से इसका उपचार संभव है। कई बार गंभीर समस्या के दौरान टीबी व ट्यूमर होने पर ऑपरेशन की नौबत आती है।

ब्रेन स्ट्रोक में बीपी व शुगर करें नियंत्रित

ब्रेन स्ट्रोक की समस्या पर डॉ. शर्मा ने लोगों को परामर्श दिया कि इस बीमारी का कारण अधिक धूम्रपान, एल्कोहल, मोटापा, शुगर, कम पानी पीना, वसायुक्त भोजन व जेनेटिक है। इसमें आवाज में बदलाव, हाथ-पांव में कमजोरी, दौरे व बेहोशी के लक्षण नजर आते हैं। इसका इलाज दवाइयां व फिजियोथेरेपी है। कुछ मामलों में ऑपरेशन की जरूरत भी पड़ती है।

ब्रेन स्ट्रोक से ऐसे बचें

- बीपी व शुगर नियंत्रित रखें

- नियमित व्यायाम करें

- पानी अधिक पीये

- तली-भुनी चीजें न खाएं

तनाव की वजह है माइग्रेन, खाने पर रखें ध्यान 

माइगे्रन की सबसे बड़ी वजह तनाव है। इसमें कभी-कभी तेज दर्द होने लगता है। कई बार सिर दर्द लगातार बना रहता है। ऐसे मरीज तनाव न लें। योग, प्राणायाम करें। खट्टी चीजें, पनीर, सिरका, अचार, दही, चॉकलेट, जंक फूड न खाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *